कोलकाताः वरिष्ठ सीपीएम नेता और लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी हमारे बीच नहीं रहे. 89 साल की उम्र में उनका निधन हो गया. 10 अगस्त को किडनी की बीमारी के चलते उन्हें दोबारा अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उनकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ और सोमवार सुबह उन्होंने अंतिम सांस ली. पूर्व लोकसभा स्पीकर के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शोक जताया.

बताया जा रहा है कि बीते 28 जून को दिमाग में रक्तस्त्राव के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. तब से लेकर डॉक्टरों की 5 सदस्यीय टीम की निगरानी में उनका इलाज चल रहा था. 10 अगस्त को एक बार फिर उन्हें किडनी संबंधित समस्या के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन उनकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ और आज सुबह उन्होंने अस्पताल में ही आखिरी सांस ली.

25 जुलाई, 1929 को असम के तेजपुर में सोमनाथ चटर्जी का जन्म हुआ था. वह मशहूर वकील और हिंदू महासभा के संस्थापक निर्मलचंद्र चटर्जी के बेटे थे. सोमनाथ चटर्जी की प्रारंभिक शिक्षा कोलकाता और उच्‍च शिक्षा कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी से हुई. श्रमिक नेता के तौर पर पहचाने जाने वाले सोमनाथ चटर्जी जनता के बीच काफी लोकप्रिय थे. सोमनाथ चटर्जी 1971 में पहली बार सांसद चुने गए.

वह 1989 से 2004 तक लोकसभा में सीपीएम की ओर से संसदीय दल के नेता रहे. साल 2004 में वह सभी दलों की सहमति से लोकसभा के अध्यक्ष चुने गए. चटर्जी 10 बार लोकसभा सांसद चुने गए थे. वह पश्चिम बंगाल की मौजूदा मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से एक बार चुनाव हार गए थे. उन्होंने 35 वर्षों तक सांसद के तौर पर देश की सेवा की. साल 1996 में उन्हें सर्वश्रेष्ठ सांसद के पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया था.

सोमनाथ चटर्जी के निधन पर राजनीति जगत की सभी हस्तियां शोक व्यक्त कर रही हैं. पीएम नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट कर सोमनाथ चटर्जी के निधन पर दुख जताया. उन्होंने लिखा कि लोकसभा के पूर्व स्पीकर सोमनाथ चटर्जी भारतीय राजनीति के निष्ठावान समर्थक थे. उन्होंने हमारे संसदीय लोकतंत्र को समृद्ध बनाया. वह गरीबों की आवाज बुलंद करते थे. उनके निधन से दुखी हूं. मेरी संवेदना उनके परिवार के साथ हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर दुख व्यक्त किया. राहुल गांधी ने लिखा, ‘दुख की इस घड़ी में उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदना हैं.’ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी सोमनाथ चटर्जी के निधन पर शोक जताते हुए इसे देश के लिए बड़ी क्षति बताया.

2019 में बीजेपी के सौ सांसदों को लोकसभा का टिकट मिलने पर संदेह, कामकाज में मिली गड़बड़ी