नई दिल्ली: 9 महीने तक गर्भ में पालने वाली एक मां ने बेटी को जन्म देने के कुछ घंटे के भीतर ही मौत के घाट उतार दिया है. बता दें कि इस घटना को वेस्ट दिल्ली के एक अस्पताल में अंजाम दिया गया है. पुलिस की शुरुआती जांच में जो खुलासा हुआ है वो और भी चौकाने वाला है. पुलिस ने उस मां की पहचान रीता देवी के रूप में कि है.

पुलिस कमिश्नर दिल्ली वेस्ट विजय कुमार ने बताया है कि रीता देवी ने बच्ची के जन्म से पहले अस्पताल में ही एक सहायक को बताया था कि उनके पति एक और बेटी नहीं चाहते हैं. अगर दूसरी बेटी पैदा हुई तो पति उनसे लड़ाई करेगा. डीसीपी ने कहा कि इसके कारण देवी ने कहा कि वह फिर से एक और लड़की पैदा करना नहीं चाहती थी. घटना के बाद दिल्ली पुलिस ने हत्या का केस रजिस्टर कर लिया है.

डीसीपी ने कहा कि अभी तक के जांच में देवी के पति असरफी महतो की इस घटना में प्रत्यक्ष भागीदारी के कोई सबूत नहीं मिले हैं. महतो को बेटी की हत्या के प्लान के बारे में पहले से कोई अंदेशा नहीं था. पुलिस ने बताया है की महतो दिल्ली के कनॉट प्लेस में स्थित एक प्राइवेट कंपनी में हेल्पर के तौर पर नौकरी करता है.

महतो ने इस बात से भी साफतौर पर इनकार किया है कि उसे बेटी ने बल्कि बेटा चाहिए था. महतो ने पुलिस को बताया है कि मेरे जैसे गरीब व्यक्ति के लिए एक बेटा या बेटी में कोई फर्क नहीं है. पुलिस ने बताया है कि रीता देवी को नौ महीने के गर्व के बाद शनिवार को दिल्ली के मोती नगर ESIC अस्पताल में भर्ती कराया गया था. हत्या के बाद गुरुवार को बच्ची का पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी सामने आ गया है. जिसमें बच्ची के शरीर पर कई जगह चोट के निशान मिले हैं. पुलिस ने कहा कि पूछताछ में महिला ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है.

गुजरात: प्रेमी से बोली महिला- पति की हत्या कर दो, जिंदगी भर रखैल बनकर रहूंगी

चरित्र पर शक के चलते इस शख्स ने पत्नी के प्राइवेट पार्ट में करंट लगाकर कर दी बेरहमी से हत्या